भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुश्क ज़ख़्मों को कुरेदा जाएगा / ताहिर वारसी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुश्क ज़ख़्मों को कुरेदा जाएगा
दश्त में दरिया को ढूँढा जाएगा

याद-ए-माज़ी इक तिलिस्मी ग़ार है
मुड़ के जो देखेगा पथरा जाएगा

तर्क-ए-मय अज़-राह-ए-तौबा कर भी लूँ
कोई बादल आ के बहका जाएगा

ज़लज़ले सब ईंट पत्थर खा गए
रेत का अब घर बनाया जाएगा

हाल-ए-दिल ‘ताहिर’ सँभाल कर कह ज़रा
लफ़्ज़ को मआनी से तौला जाएगा