भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुश-जमालों की याद आती है / सिकंदर अली 'वज्द'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुश-जमालों की याद आती है
बे-मिसालों की याद आती है

बाइस-ए-रश्‍क मेहर ओ माह थे जो
उन हिलालों की याद आती है

जिन की आँखों में था सुरूर-ए-ग़ज़ल
उन ग़ज़ालों की याद आती है

सादगी ला-जवाब है जिन की
उन सवालों की याद आती है