भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुश रहता हूँ ग़म में भी / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुश रहता हूँ ग़म में भी
ज़्यादा में भी, कम में भी

हम किसके अवगुण देखें
अवगुण हैं जब हम में भी

ऐ दिल! क्या तू पागल है
हँसता है मातम में भी

क्या मुझ जैसा दीवाना
होगा दो आलम में भी

वो भी गुस्सा होते हैं
शोले हैं शबनम में भी