भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ून का रिश्ता / विचिस्लाव कुप्रियानफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: विचिस्लाव कुप्रियानफ़  » संग्रह: समय की आत्मकथा
»  ख़ून का रिश्ता



मैं कुछ देखना नहीं चाहता

मैं कुछ सुनना भी नहीं चाहता

और कुछ कहूंगा भी नहीं


होंठ काटता हूँ अपने

महसूस करता हूँ

ख़ून का स्वाद


आँखें बन्द करता हूँ

देखता हूँ रंग

ख़ून का

कान बन्द करता हूँ

सुनता हूँ ख़ून की आवाज़


नहीं, सम्भव नहीं है

ख़ुद में ही सिमट जाना

और तोड़ लेना इस दुनिया से

ख़ून का नाता


सिर्फ़ एक ही रास्ता है

हमेशा हम

बोलते और सुनते रहें

सुनते और बोलते रहें

शब्द बसे हैं हर किसी के ख़ून में