भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ूबियों को मस्ख़ कर के ऐब जैसा कर दिया / साबिर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ूबियों को मस्ख़ कर के ऐब जैसा कर दिया
हम ने यूँ ऐबों की आबादी को दूना कर दिया

तय तो ये था हर बदी की इंतिहा तक जाएँगे
बे-ख़याली में ये कैसा काम अच्छा कर दिया

मुझ से कल महफ़िल में उस ने मुस्कुरा कर बात की
वो मिरा हो ही नहीं सकता ये पक्का कर दिया

चिलचिलाती-धूप थी लेकिन था साया हम-क़दम
साएबाँ की छाँव ने मुझ को अकेला कर दिया

मैं भी अब कुछ कुछ समझने लग गया हूँ ऐ तबीब
दर्द ने सीने में उठ कर क्या इशारा कर दिया