भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़्वाब - 2 / अंशु हर्ष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़्वाबों में जब
आसमान में चहल कदमी करती हूँ
ये तारे चुभते है पग की हथेलियों में
बैठ कर बुहारती हूँ तो
हाथ की रेखाओं में चमक बैठ जाती है
चाँद से कहती हूँ
यूँ मत टूट के बिखरा करों
सुबह होते ही ये दुनियां
मेरे रात के सफर को
पहचान जाती है