भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खाई-खाई रे / मथुरा नाथ सिंह 'रानीपुरी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूठ जहाँ हो गौरवशाली
सच होय धाराशाही रे
धंसी जाय ऊ देश रसातल
लूटै पाई-पाई रे॥

गाफिल जहाँ शासन सत्ता छै
कैन्हें नी मचै तबाही रे
जहाँ भेड़िया भेड़ चिबाबै
कैन्हेंनी हुवै रूसवाई रे।

गरिमा घटै जहाँ विद्या रऽ
खल रऽ होय गुरूवाई रे
‘मथुरा’ धन्यवाद देशऽ केॅ
मिटै नै खाई-खाई रे।