भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खामचाई / राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विचारां री धजावां सांभ्यां
वाद री पछेवड़ी ओढ्यां
भाजता दीसै
केई आगीवांण।

सईकां सूं
दब्योड़्या-चींथ्योड़ा
मांणसां री पीड़ रौ
अणूंतौ सेकौ ढोवता।

अैड़ी धजावां अर
जगचावी पछेवड़ी
वांनै पूगायदै सैं-ठोड़
वां सागी सिंघासणां माथै
जठै सूं मांनखै रै साथै
हुवै अणूताई
जिनावर जैड़ी।

हाल बगत लिखारा ई
राजनेतावां सूं
वपराय लीन्ही
अंगेज लीन्ही
हदभांत
राज करण री खामचाई।