भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खामोशी भी पिघले / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बढ़ गई है
रिश्तों में ठिठुरन
नेह तो मिले।
धूप अब लें जरा
फुरसत हो,
जिंदगी है केतली
तेरा प्यार है-
अदरख की चाय
मीठी चुस्कियाँ
बर्फीले पहाड़-सी
खामोशी भी पिघले
-0-