भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खाली घरौंदा/ भावना कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा सहारा
पुरानी एलबम
जिसमें कैद
वो सुनहरी यादें
खो जाती हूँ मैं
बीते हुए पलों में
कैसे बनाया
हमने ये घरौंदा
आए उसमें
दो नन्हे-नन्हे पाँव
बढ़ते गए
ज्यों -ज्यों था वक़्त बढ़ा
पर फिर भी
नाज़ुक बहुत थे
उनके पंख
लेकिन फिर भी वो
बेख़ौफ होके
भर गए उड़ान
ढूँढते हैं वो
जाने अब वहाँ क्या
उस फैले से
खुले से आसमान।
राह तकता
रह गया ये मेरा
बेबस बड़ा
पुराना -सा घरौंदा
खाली औ सुनसान।