भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुदी का नशा चढ़ा आपमें रहा न गया / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुदी का नशा चढ़ा आप में रहा न गया।
ख़ुदा बने थे ‘यगाना’ मगर बना न गया॥

गुनाहे-ज़िंदादिली कहिये या दिल-आज़ारी[1]
किसी पै हँस लिये इतना कि फिर हँसा न गया॥

समझते क्या थे, मगर सुनते थे तर्रानाये-दर्द।
समझ में आने लगा जब तो फिर सुना न गया॥

पुकारता रहा किस-किसको डूबनेवाला।
ख़ुदा थे इतने, मग्र कोई आड़े आ न गया॥


शब्दार्थ
  1. सताना