भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुद को पाने निकल गया हूँ मैं / सुरेन्द्र सुकुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुद को पाने निकल गया हूँ मैं।
गिरते-गिरते सम्भल गया हूँ मैं।

चाहतें ले गईं गुनाहों तक,
हाय, कितना फिसल गया हूँ मैं।

ख़ुद को देखूँ तो तू नज़र आए,
तेरी सूरत में ढल गया हूँ मैं।

दिल में महफूज़ ही मुझे रखते,
होंठ पे आके जल गया हूँ मैं।

मुद्‍दतें हो गईं यही सोचूँ,
तेरी गलियों में कल गया हूँ मैं।