भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुशियाँ / कल्पना लालजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


शब्द बहुत छोटा है अर्थ बड़ा व् गूढ़
दुनिया खोजे इसको पर आँखों से दूर
है क्या यह कहाँ मिलती है
क्या है इसकी कीमत
नहीं जान सका है कोई
परिधि नहीं है सीमित
कभी हाथ लग जाती है
बिन खोजे बिन आस
कभी जीवन निकल जाता है
विफल सभी प्रयास
हम दौड़े इसके पीछे
ये दौड़े आगे- आगे
मृगमरीचिका मरुभूमि की
जग सोये कभी न् जागे
द्वार ह्रदय के बंद किये
हम रहे खोजते जिसको
हम क्या साधू सन्यासी भी
पा न् सके हैं उसको
छोटा सा इक मंत्र बताऊँ
सुन लो धर के ध्यान
जीवन फिर बदल जाएगा
रंग बिरंगा हो जाएगा
न् भागो इसके आगे
न् भागो इसके पीछे
स्वयं मित्र बन जाएगा
पीछे-पीछे चला आयेगा
सराबोर तुम्हें कर जाएगा