भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुश्बुओं को जहाँ तुम चले हार के / ललित मोहन त्रिवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुश्बुओं को जहाँ तुम चले हार के !
थे वहीं पर बहुत पेड़ कचनार के !!

आरहा है घटाओं का मौसम मगर !
झेल थोड़े से तेवर भी अंगार के !!

इक थपेड़े ने आकर कहा नाव से !
कितने थोथे भरोसे हैं पतवार के !!

डूबना ही मुक़द्दर में जब तय हुआ !
देखलें हौसले हम भी मझधार के !!

फेर लेते हैं नज़रें मुझे देखकर !
क्या अनोखे हैं अंदाज़ दीदार के !!

आप जिनको मशालें समझते रहे !
हाथ में झुनझुने थे पुरस्कार के !!

देखते हो सदा क्यों कड़क बिजलियाँ ?
देखना सीख झोंके भी बौछार के !!

सर के बदले में मंहगी नहीं ज़िंदगी !
तुमको आते नहीं ढंग व्यापार के !!

मंज़िलें हैं कहाँ ये पता ही नहीं !
सिर्फ़ आदी हुए लोग रफ़्तार के !!