भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुश रहने की आदत है / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुश रहने की आदत है।
कहते लोग हिमाकत है।।

ज़िद की जो सच कहने की,
समझो आयी शामत है।।

नजर झुका कर कत्ल करे,
ये भी अजब शराफ़त है।।

गाँधी जी के चेलों से,
बस्ती भर में दहशत है।।

उसको कैसी आजादी?
झेल रहा जो ग़्ाुर्बत है।।

जिन्दा उसकी रहमत से?
यह रहमत तो आफ़त है।।