भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खूँटियों पर टँगे हैं लोग / आनंद तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नेकी बदी की
गठरी बाँधे
खूँटी-खूँटी टँगे हैं लोग
       किसे क्या बताएँ
       सब अपने
       रंगों में ही रंगे हैं लोग ।

दुनिया लगती है
बेमानी
आसमान झूठा लगता है
अपने सब
जब रंग बदलते
मीठा दूध मठा लगता है
       तंग गली में
       दौड़ लगाते
       देख-देख कर ठगे हैं लोग ।

कोहरे को
परदा मत समझो
इसके पीछे क्या कर लोगे
नदिया की धारा
बहने दो
रोकोगे तो ख़ुद भोगेगे
       पुल पर क्या
       चल पाएँगे ये
       रेलिंग पर जो टंगे हैं लोग ।