भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेलत खेल खिलाड़न माया / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेलत खेल खिलाड़न माया।
जोगी जती तपी व्रत धारी सुरनर मुनि को पकर नचाया।
दूती रूप फिरत जग जीती कर्म बिवूचित काया।
ग्रहं मंदर धन धाम जहाला खट दर्शन पाखंड दिखाया।
जूड़ीराम छलत वा सबको समझ न परे रूप बिनु छाया।