भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेलें खेल / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूठम-झूठी खेलें खेल ।
बनूँ मैं टीचर
तुम मॉनीटर
बाक़ी बच्चे
पंक्ति बनाकर
यहाँ खड़े हों, प्रेयर गाएँ ।
फिर अपनी कक्षा में जाएँ ।

अपनी-अपनी
पुस्तक खोलें ।
आपस में धीरे से बोलें ।
बिना बात न शोर मचाएँ ।
छुट्टी होते ही घर जाएँ ।