भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेल-खिलौने / किसलय बंद्योपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छिन-छिनाकी बुबला-बू,
मेले से लाया बिट्टू।
ढम-ढम ढोलक, बाजी बीन,
गांधी जी के बंदर तीन!
सुनकर भालू की खड़ताल,
नीलू-पीलू हैं बेहाल।
उनका घर है टिंबकटू,
छिन-छिनाकी बुबला-बू!

-साभार: नंदन, सितंबर, 1987, 20