भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेल-खेल में / चंद्र रेखा ढडवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारे हाथों में
समुद्र की रेत
अवकाश के क्षण थे
खेलते रहे
खेल-खेल में
रेत को घर कर दिया
चमक से बँध कर कभी
चूम लिया
शोर हुआ सहसा
सागर उमड़ा
भरी-भरी हथेलियाँ बहा दीं
दूर खड़े हो कर फिर भी
देखना भी नहीं चाहा
विसर्जित होते रेत-कणों को.