भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खोज / सुधा ओम ढींगरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गिरा नज़र से जो
फिर उसका कहाँ ठिकाना है;
बोझ गुनाहों का स्वयं ही उठाना है.

डार से बिछुड़ कर
पूछे कोई उड़ने वाले से;
कहाँ मज़िल उसकी, कहाँ उसे जाना है.

क्या जानें रहने वाले
सुख औ' मदहोशी के जनूं में;
वीरान बस्तियों को कैसे सजाना है.

किस लिए फैला
वहशत और गरूर का धुआं;
खाली करना है मकां जो बेगाना है.

तनातनी ने
मन्दिर, मस्जिद, गुरुद्वारे में;
दिल कई बनाए नफ़रत का कारखाना है.

खोजे सुधा
अब किस जगह ईश्वर को;
इंसानियत हुई क़त्ल जहाँ उसे बैठाना है.