भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खोयी हुई चीज़ / प्रयाग शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह खोई हुई चीज़ नहीं मिलती
दिनों तक कितनी ही चीज़ों में उसकी
झलक आती है अंधेरे में हम उससे मिलती-जुलती
चीज़ को उठाकर तौलने भी लगते हैं ।
घर में रास्ते में बरसों बाद भी कौंध जाती
है वह खोई हुई चीज़ । और जब चीज़ों के
खोने के बारे में बातें होती हैं,
वही याद आती है सबसे अधिक ।