भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खोये-खोये लगते हो, ठीक-ठाक तो हो / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खोये-खोये लगते हो, ठीक-ठाक तो हो
अपने में ही रहते हो, ठीक-ठाक तो हो

मैख़ानों की जान हुआ करते थे तुम तो
अब मंदिर में दिखते हो, ठीक-ठाक तो हो

पहले कितनी चाहत से मिलते थे तुम यार
अब कतराये फिरते हो, ठीक-ठाक तो हो

इस युग में भी प्यार व़फा और अपनेपन के
सपने देखा करते हो, ठीक-ठाक तो हो

कुछ भी ठीक नहीं लगता फिर भी `हस्ती' तुम
ठीक हूँ मैं तो कहते हो, ठीक-ठाक तो हो