भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख्वाब तो देखे / प्रताप सोमवंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख्वाब तो देखे परी की तरफ नही देखा
जिसको सब देखें उसी की तरफ नहीं देखा

वो जो आकाश से लौटा है अब कहां जाए
शख्स जिसने की जमीं की तरफ नहीं देखा

एड़ियों से रगड़ के हमने निकाला पानी
खुद कमाया है नदी की तरफ नहीं देखा

तुमको लगता है उदासी तुम्हारे साथ ही है
दोस्त मैने भी खुशी की तरफ नहीं देखा

देख तो उसकी नजर भी कमाल है साहेब
खूबियां देखी कमी की तरफ नहीं देखा