भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गंगड़ा देशो निलिया जुंदुरा रुड़म रु डू जाती ये डो बेनी रानी / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गंगड़ा देशो निलिया जुंदुरा रुड़म रु डू जाती ये डो बेनी रानी
गंगड़ा देशो निलिया जुंदुरा रुड़म रु डू जाती ये डो बेनी रानी
गंगड़ा देशो निलिया जंुदुरा रुड़म रु डू जाती ये
गंगड़ा देशो निलिया जंुदुरा रुड़म रु डू जाती ये
गंगड़ा देशो निलिया जडू रे
गंगड़ा देशो निलिया जडू रे
लिपि लिपि टे लाडे संगर माये कंकर माडीवा डो बेनी रानी
लिपि लिपि टे लाडे संगर माये कंकर माडीवा डो बेनी रानी
लिपि लिपि टे लाडे संगर माये कंकर माडीवा
लिपि लिपि टे लाडे संगर माये कंकर माडीवा

स्रोत व्यक्ति - चारकाय बाई, ग्राम - माथनी