भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गगन के झुकावोॅ / मथुरा नाथ सिंह 'रानीपुरी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गगन केॅ झुकावोॅ
धरती पटावोॅ
फाटलोॅ करारी
दरारो मिटावोॅ॥

सड़लोॅ गर्मी सें
सूखलोॅ छै फूल
नै पड़लै पानी
फरलोॅ छै शूल
उपजै नै भेद, सबकेॅ मिढावोॅ॥

रंग सब एक्के
रंग नै चढ़ावोॅ
छोड़ोॅ दुराव केॅ
न तोंय टकरावोॅ
मिलोॅ तों सभ्भे से, सबकेॅ पुराबोॅ॥

बात बढ़ैला सँ
बढ़ै छै बात
गाछी आ बिरछी पर
फरै छै पात
लगै जौं आग-
बातैं बुझावोॅ
गगन केॅ झुकावोॅ॥