भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गजरा बेचने वाली स्त्री / निर्मला पुतुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गजरा बेचने वाली स्त्री
गजरा बेच रही है
वह खुद बदसूरत है
लेकिन दूसरे को सुन्दर बनाने के लिए
सुन्दरता बेच रही है।
गजरा बेचने वाली स्त्री का दिल कोमल है
लेकिन पैर में बिवाइयां फटी हैं
उसने गजरे में पिरो रखे हैं अरमान
उसके अरमान
जो फूलों में गजरे की तरह पिरोए हैं
वह खुद गजरा नहीं लगाती
लेकिन दूसरे को गजरा लगाने की
विशेषताएं बताती हैं
अजीब विडंबना है कि
सुन्दरता बेचने वाली इस असुन्दर स्त्री के
सपनों में आती हैं
कई-कई गजरे वाली स्त्रियां
और इसका उपहास करती हुईं
गुम हो जाती हैं आकाश में
तब गजरों में पिरोए फूल कांटे की तरह
चुभते हैं उसके सीने में!