भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गतिविधियाँ यदि ठीक हों / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गतिविधियाँ यदि ठीक हों, सब कुछ होगा ठीक।
आ जायेंगे सहज ही, सारे सुख नजदीक॥
सारे सुख नजदीक, आचरण की सब माया।
रहे आचरण ठीक, निखरते यश, धन, काया।
'ठकुरेला कविराय, सहज मिलतीं सब निधियाँ।
हो सुख की बरसात, ठीक हों यदि गतिविधियाँ॥