भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गप्प सुनो / गंगासहाय 'प्रेमी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाऊ-हाऊ हप्प,
एक सुनाऊँ गप्प।
बाबा जी की दाढ़ी,
झरबेरी की झाड़ी।
उस दाढ़ी के अंदर,
घुसे बीसियों बंदर।
करते खों-खों, खों-खों।
यूँ ही बीते बरसों।