भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गरब करे सोई हारे / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गरब करे सोई हारे,
हरि सो गरब करे सोई हारे।
गरब करो रतनागर सागर,
जल खारो कर डारे। हरि...
गरब करे लंकापति रावण,
टूक-टूक कर डारे। हरि...
गरब करे चकवा-चकवी ने,
रैन बिछोहा डारे। हरि...
इन्द्र कोप कियो ब्रज के ऊपर,
नख पर गिरवर धारे। हरि...
मीरा के प्रभु गिरधर नागर,
जीवन प्राण हमारे। हरि...