भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

गरब करे सोई हारे / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गरब करे सोई हारे,
हरि सो गरब करे सोई हारे।
गरब करो रतनागर सागर,
जल खारो कर डारे। हरि...
गरब करे लंकापति रावण,
टूक-टूक कर डारे। हरि...
गरब करे चकवा-चकवी ने,
रैन बिछोहा डारे। हरि...
इन्द्र कोप कियो ब्रज के ऊपर,
नख पर गिरवर धारे। हरि...
मीरा के प्रभु गिरधर नागर,
जीवन प्राण हमारे। हरि...