भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गर्दिश में अगर मेरा सितारा नहीं होता / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गर्दिश में अगर मेरा सितारा नहीं होता ।
मुझको तेरा उपदेश गवारा नहीं होता ।

थोड़े ने जगा दी है बहुत-कुछ की तमन्ना,
अब क्या करें थोड़े में गुज़ारा नहीं होता ।

दुनिया से हमें इतनी मोहब्बत नहीं होती,
दुनिया में अगर कोई हमारा नहीं होता ।

हर ज़र्रे को सूरज में बदल दे कोई फिर भी,
नज़रें नहीं होतीं तो नज़ारा नहीं होता ।

कुछ सोच न पाता कि मैं लौटूँ कि न लौटूँ,
कुछ सोच के तुमने जो पुकारा नहीं होता ।