भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गली का मुहाना और तुम / ऋतु त्यागी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम यूँही ही एक दिन खड़ी थी गली के मुहाने
तुम्हारे कँधे को दबाता
वही तुम्हारा पुराना बैग तुम्हारे साथ खड़ा था
तुम शायद कहीं जाने की तैयारी में थी
तुम्हारे चेहरे पर तनाव के हल्के बादल उड़ रहे थे
मैंने उस वक्त सोचा था
कि तुम्हारे बगल में खड़ा हो जाऊँ
और उतार लूँ तुम्हारे कँधे पर रखा वह बैग
पर मैं हमेशा फैसलों की घड़ी की गुजर जाने की
हद तक उसे देखता रहता हूँ
और इस बार भी यही हुआ
मेरे सोचते- सोचते तुम रिक्शा में बैठकर
अपने दुपट्टे और अपने बैग की धरोहर सँभाले
मेरी आँखों के ठीक सामने
मुझ से अनभिज्ञ-सी चली गई
और मैं फैसले की इस घड़ी की टिक-टिक
अपने कानों की जेब में रख कर
उन्हें अपनी हथेलियों से
आज भी सहला रहा हूँ ।