भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गले पड़ी दुविधायें हैं / रविशंकर पाण्डेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गले पड़ी दुविधायें हैं

अफवाहों की
धुंध घनी है
डूबी सभी दिशायें हैं,
धुआँ- धुआँ से
इस मौसम की
शातिर बहुत हवायें हैं!

स्याह सफेद
न समझ रहा है
क्या झूठा क्या सच्चा है,
ऊपर से दिखता-
सपाट जो
वही दे रहा गच्चा है य
कौन दाहिने बाँयें है!

चोला बदल रही
बदल रही दुनिया की पहचानें हैं,
गड्डमगड्ड
हो रहे चेहरे
सब जाने अनजाने हैंय
बदले-बदले
सर्वनाम सब
बदल गयीं संज्ञायें हैं!

नीम अँधेरे के
चंगुल में
कब से फँसा सबेरा है,
जिधर कहीं भी
नजर घुमाओ
दीपक तले अँधेरा हैय
आये थे-
संकल्प बोलने
गले पड़ी दुविधायें हैं!