भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गळती आपणीं / सिया चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


सरासर गळती आपणीं
कै लोग ढूंढै खोट
गळती आपणीं
कै लोग बणावै बातां
जद देखै हेत
आपणैं नैणां में।

गळती है आपणीं
कै एक दूजै नै
देख-देख‘र जीवां
आ ई तो है
असली गळती आपणीं
कै मिलग्या
मन सूं मन
अर देख लिया
साथै रा सुपनां।