भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गहरी जड़ें लिए / अर्चना भैंसारे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम आँगन के बरगद हो पिता
जो धँसे रहे गहरी जड़ें लिए

जिसकी बलिष्‍ठ भुजाएँ
उठा सकीं मेरे झूलों का बोझ
और जिन्होंने थामे रखी
मज़बूती से आँगन की मिट्टी
ताकि एक भी कण रिश्‍तों का
विषमता की बाढ़ में न बह पाए

उसकी आँखें निगरानी करे
ताकि ना आने पाए मेरे घर सर्द हवा
और बचा रहे मेरा खपरैल छाया घर
किसी धूप-छाँव से ।