भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

गहूँ काटणनीळो तरबूजो केतरो सुहावणो लगऽ / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गहूँ काटणऽ नहीं जाऊं रे साहेबजी, गहूँ काटणऽ नहीं जाऊं।
गहूँ काटणऽ म्हारी भौजाई खऽ भेजो,
उनकी रसोई हम रांधा साहेबजी, गहूँ काटणऽ नहीं जाऊं।
गहूँ काटणऽ म्हारी देराणी खऽ भेजो,
उनको पाणी हम भरां साहेबजी, गहूँ काटणऽ नहीं जाऊं।
गहूँ काटणऽ म्हारी सौतऽ भेजो,
हम सेजां हम सोवां साहेब जी, गहूँ काटणऽ नहीं जाऊं।