भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़म-ए-हयात का झगड़ा मिटा रहा है कोई / सरदार अंजुम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग़म-ए-हयात का झगड़ा मिटा रहा है कोई
चले भी आओ के दुनिया से जा रहा है कोई

कहो अजल से ज़रा दो घड़ी ठहर् जाये
सुना है आने का वादा निभा रहा है कोई

वो आज लिपटे हैं किस नाज़ुकी से लाशे को
के जैसे रूठों हुओं को मना रहा है कोई

कहीं पलट के न आ जाये साँस नब्ज़ों में
हसीन हाथों से मय्यत सजा रहा है कोई