भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँजौ पियो न प्रीतम प्यारे / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाँजौ पियो न प्रीतम प्यारे।
जरजें कमल तुमारे।
जारत काम बिगारत सूरत
सूकत रकत नियारे
जो-तौ आय साधु सन्तन कौ,
अपुन गिरस्ती वारे।
ईसुर कात छोड़ दो ईखाँ
हौ उमर के बारे।