भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँधी-शास्त्री / दीनदयाल शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाँधी-शास्त्री सबके प्यारे
हम सबके हैं राज दुलारे ।
हम सब सीखें इनसे जीना,
ये हैं सबकी आँख के तारे ।

संकट में ना ये घबराएँ
सत्य अहिंसा हमें सिखाएँ
चलें सभी हम इनके पद पर,
जीवन के हों वारे-न्यारे....