भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँधी बाबा छेलै भारत के / सुरेन्द्र प्रसाद यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाँधी बाबा छेलै भारत के
सपूत आगे बहिना।
भारत कॅ आजाद करै के
बींड़ा उठैलकै आगे बहिना।
लाख मुसीबत सामना करने
सिद्धि पैलकै आगे बहिना।
तोपो बंदूक फेल करलकै
अंग्रेज घुटना टेकलकै गे बहिना।
सब्भे गाँधी सम्मुख दाँत तरोॅ
में अंगुली काटै आगे बहिना।
बापू सें हारी-हारी गेलै
अंग्रेज आगे बहिना।
आरो हारियो केॅ जीती गेलै
गाँधी जी आगे बहिना।
अंग्रेजोॅ रोॅ पिट्ठूओं
माँत खैलकैं आगे बहिना।
विदेशी कपड़ा जलाय
लानलकै देशी आगे बहिना।
देशी खादी के सम्मान
बढ़लकै आगे बहिना।
लाख मुसीबत झेलतेॅ भारत
कैलकै आजाद आगे बहिना।
जनताँ आजादी के बीच
साँस लेलकै आगे बहिना।
आरो जनता चारो दिश
विकासो में जुटलै आगे बहिना।
समाजवादी देशो में जेकरा सें
भारत भेलै अग्रणी आगे बहिना।
बापू के कारण है तिरंगा
आकाशोॅ में फहरै गे बहिना।
भारतोॅ के मान प्रतिष्ठा
लाज रखलकै आगे बहिना।
बापू मानें भारत, भारत माने
बापू, सुन गे बहिना।