भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँव की गुडिया / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसकी आँखों से
एक गरम नदी निकलती है

एक ठंढी साँझ का
उदास सूरज
डूबता है उसकी
गहरी आँखों में

बेअसर दस्तकों से
नही कांपते दरवाजे

गीतों के धुन पर
नहीं लरजते होठ

सुना है एक रंगीन
शहर में भेज दी गई

गाँव की गुडिया
अपनी परछाइयों में छूती है
गाँव का पीपल

जीने की कोशिश में
मुस्कराती है

और मर जाती है
अगले ही पल ...