भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँव की चिट्ठी / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


भीगे राधा के नयन, तिरते कई सवाल ।
कभी न ऊधौ पूछता, ब्रज में आकर हाल।।1

चिट्ठी अब आती नहीं, रोज सोचता बाप।
जब- जब दिखता डाकिया, और बढ़े संताप ।।

रह रहकर के काँपते, माँ के बूढे़ हाथ ।
बूढ़ा पीपल ही बचा, अब देने को साथ ।।3

बहिन द्वार पर है खड़ी, रोज देखती बाट ।
लौटी नौकाएँ सभी, छोड़- छोड़कर घाट ।।4

आँगन गुमसुम है पडा़, द्वार गली सब मौन ।
सन्नाटा कहने लगा, अब लौटेगा कौन ।।5

नगर लुटेरे हो गये, सगे लिये सब छीन ।
रिश्ते सब दम तोड़ते, जैसे जल बिन मीन ।।6

रोज काटती जा रही, सुधियों की तलवार।
छीन लिया परदेस ने, प्यार- भरा परिवार।।7

वह नदिया में तैरना, घनी नीम की छाँव।
रोज रुलाता है मुझे, सपने तक में गाँव।।8

हरियाली पहने हुए, खेत देखते राह ।
मुझे शहर मे ले गया, पेट पकड़कर बाँह।।9

डबडब आँसू हैं भरे, नैन बनी चौपाल ।
किस्से बाबा के सभी, बन बैठे बैताल ।।10

बँधा मुकददर गाँव का, पटवारी के हाथ।
दारू -मुर्गे के बिना तनिक न सुनता बात।।11
-0-