भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँव बस्ती हे चारी करईया / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गाँव बस्ती हे चारी करईया
गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
ऐ गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~

गाँव बस्ती हे चारी करईया (का)
सुन्ना हबाय निचट अमरईया (अच्छा)
गाँव बस्ती हे चारी करईया (हाँ हाँ)
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~
(ऐ दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~)

पास आ हे तीर में बलावव कईसे या~~~~~
पास आ हे तीर में बलावव कईसे या~~~
दुरिहा ले~~ देखत रईतें~~व संगवारी~~ (होरे~~)
दुरिहा ले~~ देखत रईथ~~व संगवारी~~

गोठियावव कईसे या
गाँव बस्ती हे चारी करईया (अच्छा)
सुन्ना हबाय निचट अमरईया (गउव)
गाँव बस्ती हे चारी करईया (अच्छा)
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~

ऐ गाँव बस्ती हे चारी करईया (गउवकी)
गाँव बस्ती हे चारी करईया (अच्छा)
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
ऐ दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
ऐ दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
(दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~)

रटहा रे डारा ह फलकथे वो~~~~~
रटहा रे डारा ह फलकथे वो~~~~~
तोर सुध~~ जाथे मोला~~ संगवारी~~~
तोर सुध~~ जाथे मोला~~ संगवारी~~~

चोला तरसथ वो
गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
ऐ दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~

गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया (ईमान से)
गाँव बस्ती हे चारी करईया (अच्छा)
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~
(हाँ हाँ हाँ हाँ
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~)

नरवा के पानी ह नदिया में जा~~~य
नरवा के पानी ह नदिया में जा~~~य
तोला कई~~से बतावव~~ संगवारी~~~ (होरे~~)
तोला कई~~से बतावव~~ संगवारी~~~

ऐ मोर आँसू ह बोहाय
गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~

ऐ गाँव बस्ती हे चा~री करईया (अच्छा)
सुन्ना हबाय निच~ट अमरईया
गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
ऐ दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
(दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~)

तेल अउ~ हरदी ला धर लेबो वो~~~~~
तेल अउ~ हरदी ला धर लेबो वो~~~~~
उहीं आमा~~ में गिंजर~~ लेबो भाँवर~~
उहीं आमा~~ में गिंजर~~ लेबो भाँवर~~

बिहाव कर लेबो वो
गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
गाँव बस्ती हे चारी करईया
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
हाँ दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~

गाँव बस्ती हे चारी करईया (गउवकी)
सुन्ना हबाय निचट अमरईया (अच्छा)
गाँव बस्ती हे चारी करईया (हूँ~)
सुन्ना हबाय निचट अमरईया
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~

ऐ गाँव बस्ती हे चारी करईया
(सुन्ना हबाय निचट अमरईया)
गाँव बस्ती हे चारी करईया
(सुन्ना हबाय निचट अमरईया)
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
(दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~)

{ऐ दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आबे वो~~~
दिन बुड़ती होही मुंधियार करौंदा चले आहूं य~~~}