भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाउँदा गाउँदै गीतको / प्रेम विनोद नन्दन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाउँदा गाउँदै गीतको धुन हराएँ मैले
रात त मसँग नै छ, जून हराएँ मैले

बैगुनहरू यता पनि, छन् है उता पनि
मानिसहरूको त्यो भीडमा, गुन हराएँ मैले

बाँच्न त म बाँचेकै छु, औंला भाँचेर 'नि
अल्लो भो यो जिन्दगानी, नुन हराएँ मैले

किनौं किन्न नसकिने, बेच्न नसकिने
फलामहरूको यो देशमा, सुन हराएँ मैले