भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाछ लगाबू / एस. मनोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाछ लगाबू बरखा लेल

पानिकेँ सोता टूटि रहल अछि
डबरा पोखरि सूखि रहल अछि
गाछ बिरीछ पर संकट होयतै
मनुखोमे आब ठेलमठेल
गाछ .......
गाछ कटि रहल सालों साल
पर्यावरण भ' रहल कंगाल
जल संकट विकराल भ' रहल
जनजीवन भ' जायत फेल
गाछ....
धरती सभ बंजर भ' जयतै
माछ मखान कतहु नहि पयतै
बून बून ल' तरसत सभ कियो
हमर वचन नहि बूझू खेल
गाछ......