भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाड़ी तलै मनै जीरा बोया / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाड़ी तलै मनै जीरा बोया, हां सहेली जीरा ए
जीरे के दो फंुगल लागी, हां सहेली फुंगल ए
फुंगल कै मनै गऊ चराई, हां सहेली गऊ ए
गऊ का मनै दूध काढ्या, हां सहेली दूध ए
दूध की मनै खीर बणाई, हां सहेली खीर ए
खीर तै मनै बीर जिमाए, हां सहेली बीर ए
बीरे नै मनै चूंदड़ उढ़ाया, हां सहेली चून्दड़ ए
चून्दड़ ओढ़ मैं पाणी चाली, हां सहेली पाणी ए
पानी ल्यांदे दो कांटे लागे, हां सहेली कांटे ए
काटा लाग मेरै आंसू आए, हां सहेली आंसू ए
आंसू लै मनै चून्दड़ तै पूंझे, हां सहेली चून्दड़ ए
चून्दड़ नपूते में धाबे पड़गे, हां सहेली धाबे ए
धाबे ले मनै धोबी कै गेर्या, हां सहेली धोबी ए
धोबी नपूते न धोला कर दिया, हां सहेली धोला ए
धोला ले मनै लीलगर के गेर्या, हां सहेली लीलगर ए
लीलगर नपूते ने लीला कर दिया, हां सहेली लीला ए
लीला लै मनै दरजी के गेर्या, हां सहेली दरजी ए
दरजी नपूते ने कोथला सीम दिया, हां सहेली कोथला ए
कोथले मैं मनै सास घाली, हां सहेली सास ए
सास घाल में बेचण चाली, हां सहेली बेचण ए
बेच बाच के टके ल्याई, हां सहेली टके ए
टके का मनै चूड़ा पहर्या, हां सहेली चूड़ा ए
चूड़ा मेरा चिमकै, सास मेरी बिलसे ए।