भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाड़ी / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डैडी, तुम भी गाड़ी ले लो
सभी घूमने जायेंगे।
जब हौरन बोलेगा पीं पीं
राहगीर हट जायेंगे ॥

देखेंगे हिमगिरि के झरने,
चाट पकोड़ी खायेंगे।
पर डैडी बस यह मत कहना ­
जल्दी वापस आयेंगे॥

देवदार के पेड़ों के संग
फोटो कई खिचायेंगे।
जब लौटेंगे वापस घर को
चीज कई हम लायेंगे ॥

मम्मी, तुम क्या सोच रही हो,
पहनो बासंती साड़ी।
चलो संग डैडी के तुम भी,
आओ ले आयें गाड़ी॥