भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गामोॅ के लोग / रूप रूप प्रतिरूप / सुमन सूरो

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टुटलोॅ चंङेरा में चोप लगाय छै,
कत्तेॅ दिन ठठते?
एक्के टा कपड़ा पर गुजर चलाय छै,
केन्हें नो फटतै?

दोसरें की जानतै दोसरा के शोग,
केना केॅ जीयै छै गामोॅ के लोग!

घरोॅ के आगू में औकतोॅ पथार
ऐङना में धरलोॅ छै झारी-पर-झार
(जेना उलझन के भार)
कहाँ नुकैलोॅ छै निजगी के सार?
आँखी में आशा नै, भावहीन बोध;
कथी के करै छै डूबी क शोध?
बैठलोॅ छै आँखोॅ पँजराठी ढील,
दैवें कपारोॅ में ठोंकने छै कील,
‘दैवे दैव’ दबाय, ‘दैवे-दैव’ रोग!
मरनी सें जीयै छै गामोॅ के लोग!