भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाम गाम धुपवा दियैले माँ कोसिका / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गाम गाम धुपवा दियैले माँ कोसिका,
माँ तोरा नहीं माया दरेग,
बाजे लागल बिछिया अनोर ।
डेढ़ी डेढ़ी नैया गे कोसिका
घाट-घाट चढ़ेबौ रोरिया
बाजे लागल बिछिया अनोर ।’’
धारे धारे चढ़ेबौ गे कोसिका
थार थार मिठइया,
बाजे लागल बिछिया अनोर ।