भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गायन-पाठ-2 / विचिस्लाव कुप्रियानफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: विचिस्लाव कुप्रियानफ़  » संग्रह: समय की आत्मकथा
»  गायन-पाठ-2




पक्षी गा रहे हैं

हम लोगों से डरते हैं

और हम गाते हैं

डर के मारे


मछलियाँ गा रही हैं

हम लोगों से डरती हैं

और हम चुप हैं

डर के मारे


जानवर गा रहे हैं

हम लोगों से डरते हैं

और हम गुर्रा रहे हैं

डर के मारे


लोग गा रहे हैं

हम जानवर नहीं हैं

डरिए नहीं


पर भाग गए सब

उड़ गए इधर-उधर

तैर गए इधर-उधर

डर के मारे

और लोग गा रहे हैं